Breaking

Tuesday, March 31, 2020

यीशु का पहाड़ी उपदेश - धन्य वचन ! Matthew 5

यीशु का पहाड़ी उपदेश 

यीशु का पहाड़ी उपदेश - धन्य वचन ! Matthew 5

मत्ती 5 - 1 " वह इस भीड़ को देखकर, पहाड़ पर चढ़ गया; और जब बैठ गया तो उसके चेले उसके पास आए। 2 और वह अपना मुंह खोलकर उन्हें यह उपदेश देने लगा, 


धन्य वचन :

3 धन्य हैं वे, जो मन के दीन हैं, क्योंकि स्वर्ग का राज्य उन्हीं का है।


4 धन्य हैं वे, जो शोक करते हैं, क्योंकि वे शांति पाएंगे।


5 धन्य हैं वे, जो नम्र हैं, क्योंकि वे पृथ्वी के अधिकारी होंगे।

6 धन्य हैं वे जो धर्म के भूखे और प्यासे हैं, क्योंकि वे तृप्त किये जाएंगे।


7 धन्य हैं वे, जो दयावन्त हैं, क्योंकि उन पर दया की जाएगी।


8 धन्य हैं वे, जिन के मन शुद्ध हैं, क्योंकि वे परमेश्वर को देखेंगे।


9 धन्य हैं वे, जो मेल करवाने वाले हैं, क्योंकि वे परमेश्वर के पुत्र कहलाएंगे।


10 धन्य हैं वे, जो धर्म के कारण सताए जाते हैं, क्योंकि स्वर्ग का राज्य उन्हीं का है।

11 धन्य हो तुम, जब मनुष्य मेरे कारण तुम्हारी निन्दा करें, और सताएं और झूठ बोल बोलकर तुम्हरो विरोध में सब प्रकार की बुरी बात कहें।


12 आनन्दित और मगन होना क्योंकि तुम्हारे लिये स्वर्ग में बड़ा फल है इसलिये कि उन्होंने उन भविष्यद्वक्ताओं को जो तुम से पहिले थे इसी रीति से सताया था॥


यह भी देखें :

No comments:

Post a Comment