Breaking

यहोवा की यह वाणी है - पाप की मजदूरी तो मृत्यु है, परतुं परमेश्वर का वरदान हमारे प्रभु यीशु मसीह मे अनंत जीवन है."(रोमियों 6:23)

 


यहोवा की यह वाणी है

यहोवा की यह वाणी है

यिर्मयाह 16:4-13

4. उनके विषय यहोवा यों कहता है, वे बुरी बुरी बीमारियों से मरेंगे। उनके लिये कोई छाती न पीटेगा, न उन को मिट्टी देगा; वे भूमि के ऊपर खाद की नाईं पड़े रहेंगे। वे तलवार और महंगी से मर मिटेंगे, और उनकी लोथें आकाश के पक्षियों और मैदान के पशुओं का आहार होंगी।


5. ...क्योंकि यहोवा की यह वाणी है कि मैं ने अपनी शान्ति और करुणा और दया इन लोगों पर से उठा ली है।


6. इस कारण इस देश के छोटे-बड़े सब मरेंगे, न तो इन को मिट्टी दी जाएगी, न लोग छाती पीटेंगे, न अपना शरीर चीरेंगे, और न सिर मुंड़ाएंगे। इनके लिये कोई शोक करने वालों को रोटी न बाटेंगे कि शोक में उन्हें शान्ति दें;


7. और न लोग पिता वा माता के मरने पर किसी को शान्ति के लिये कटोरे में दाखमधु पिलाएंगे।


9. क्योंकि सेनाओं का यहोवा, इस्राएल का परमेश्वर यों कहता है, देख, तुम लोगों के देखते और तुम्हारे ही दिनों में मैं ऐसा करूंगा कि इस स्थान में न तो हर्ष और न आनन्द का शब्द सुनाईं पड़ेगा, न दुल्हे और न दुल्हिन का शब्द।


10. और जब तू इन लोगों से ये सब बातें कहे, और वे तुझ से पूछें कि यहोवा ने हमारे ऊपर यह सारी बड़ी विपत्ति डालने के लिये क्यों कहा है? हमारा अधर्म क्या है और हम ने अपने परमेश्वर यहोवा के विरुद्ध कौन सा पाप किया है?


11. तो तू इन लोगों से कहना, यहोवा की यह वाणी है, क्योंकि तुम्हारे पुरखा मुझे त्यागकर दूसरे देवताओं के पीछे चले, और उनकी उपासना कर के उन को दण्डवत की, और मुझ को त्याग दिया और मेरी व्यवस्था का पालन नहीं किया,


12. ओर जितनी बुराई तुम्हारे पुरखाओं ने की थी, उस से भी अधिक तुम करते हो, क्योंकि तुम अपने बुरे मन के हठ पर चलते हो और मेरी नहीं सुनते;


13. इस कारण मैं तुम को इस देश से उखाड़ कर ऐसे देश में फेंक दूंगा, जिस को न तो तुम जानते हो और न तुम्हारे पुरखा जानते थे; और वहां तुम रात-दिन दूसरे देवताओं की उपासना करते रहोगे, क्योंकि वहां मैं तुम पर कुछ अनुग्रह न करूंगा।


पाप की मजदूरी तो मृत्यु है


मित्रों आग को आप अनजाने मे छुऐं या जानबूझ कर आग आपको दोनो स्थिति मे जलायेगा. क्योंकि उसका स्वभाव ही है जलाना.
वैसे ही आप पाप या बुराई अनजाने मे करे या जानबूझ कर इसके परिणाम भी भुगतने पड़ते है. जोकि मृत्यु है. बाइबल मे पवित्रात्मा जी कहते है- " पाप की मजदूरी तो मृत्यु है, परंतु परमेश्वर का वरदान हमारे प्रभु यीशु मसीह मे अनंत जीवन है."(रोमियों 6:23).
परमेश्वर का जन बाइबल (भजन संहिता19 :12-13) मे कहता है -
"अपनी भूल चूक को कौन समझ सकता है ? मेरे गुप्त पापों से तू मुझको पवित्र कर.
तू अपने दास को ढिठाई के पापों से भी बचाए रख; वे मुझ पर प्रभुता करने न पाएँ, तब मै सिद्ध हो जाऊँगा, और बड़े अपराधों से बचा रहूँगा."

 बाइबल मे पाप से छूटने का जो मार्ग है वह इस प्रकार है -
". . . यीशु का लहू हमें सब पापों से शुद्ध करता है.
यदि हम कहें कि हम मे कुछ भी पाप नही तो अपने आप को धोखा देतें है,और हम मे सत्य नही.
यदि हम अपने पापो को मान ले, तो वह हमारे पापों को छमा करने और हमे सब अधर्म से शुद्ध करने मे विश्वासयोग्य और धर्मी है. " ( 1यूहन्ना 1:7-9 ).


फिर 1यूहन्ना 2:1-2 मे लिखा है -" हे मेरे बालको मै ये बाते तुम्हे इसलिए लिखता हूँ कि तुम पाप न करो;  और यदि कोई पाप करे,तो पिता के पास हमारा एक सहायक है,अर्थात धर्मी यीशु मसीह; और वही हमारे पापों का प्रायश्चित है,और केवल हमारे ही नही वरन् सारे जगत के पापों का भी.

मित्रो बाइबल मे परमेश्वर  बता रहे है कि उसका पुत्र यीशु मसीह ही केवल सारे जगत के पापों का प्रायश्चित है. और हम सबों के पापों का भी.
परमेश्वर के पुत्र यीशु का लहु ही हमें सब पापों से शुद्ध करता है.
इसलिए प्रभु यीशु मसीह पर विश्वास करे और अपने पापों से मुक्ति पाएँ.
परमेश्वर आपसे प्रेम करते है और आपको पापो से बचाना चाहते है।


परमेश्वर आपको आशीष दे.

No comments:

Post a Comment